Bible 2 India Mobile
[VER] : [HINDI]     [PL]  [PB] 
 <<  Ezra 9 >> 

1जब ये काम हो चुके, तब हाकिम मेरे पास आकर कहने लगे, “न तो इस्राएली लोग, न याजक, न लेवीय इस ओर के देशों के लोगों से अलग हुए; वरन उनके से, अर्थात् कनानियों, हित्तियों, परिज्जियों, यबूसियों, अम्‍मोनियों, मोआबियों, मिस्रियों और एमोरियों के से घिनौने काम करते हैं।

2क्‍योंकि उन्‍हों ने उनकी बेटियों में से अपने और अपने बेटों के लिये स्त्रियाँ कर ली हैं; और पवित्र वंश इस ओर के देशों के लोगों में मिल गया है। वरन हाकिम और सरदार इस विश्‍वासघात में मुख्‍य हुए हैं।”

3यह बात सुनकर मैं ने अपने वस्‍त्र और बागे को फाड़ा, और अपने सिर और दाढ़ी के बाल नोचे, और विस्मित होकर बैठा रहा।(मत्ती. 26:65)

4तब जितने लोग इस्राएल के परमेश्‍वर के वचन सुनकर बन्‍धुआई से आए हुए लोगों के विश्‍वासघात के कारण थरथराते थे, सब मेरे पास इकट्ठे हुए, और मैं साँझ की भेंट के समय तक विस्मित होकर बैठा रहा।

5परन्‍तु साँझ की भेंट के समय मैं वस्‍त्र और बागा फाड़े हुए उपवास की दशा में उठा, फिर घुटनों के बल झुका, और अपने हाथ अपने परमेश्‍वर यहोवा की ओर फैलाकर कहा,

6“हे मेरे परमेश्‍वर ! मुझे तेरी ओर अपना मुँह उठाते लाज आती है, और हे मेरे परमेश्‍वर! मेरा मुँह काला है; क्‍योंकि हम लोगों के अधर्म के काम हमारे सिर पर बढ़ गए हैं, और हमारा दोष बढ़ते बढ़ते आकाश तक पहुँचा है ।(लूका 21:24)

7अपने पुरखाओं के दिनों से लेकर आज के दिन तक हम बड़े दोषी हैं, और अपने अधर्म के कामों के कारण हम अपने राजाओं और याजकों समेत देश देश के राजाओं के हाथ में किए गए कि तलवार, बन्‍धुआई, लूटे जाने, और मुँह काला हो जाने की विपलियों में पड़ें जैसे कि आज हमारी दशा है।

8और अब थोड़े दिन से हमारे परमेश्‍वर यहोवा का अनुग्रह हम पर हुआ है, कि हम में से कोई कोई बच निकले, और हम को उसके पवित्र स्‍थान में एक खूँटी मिले, और हमारा परमेश्‍वर हमारी आँखों में ज्‍योति आने दे, और दासत्‍व में हम को कुछ विश्रान्ति मिले।

9हम दास तो हैं ही, परन्‍तु हमारे दासत्‍व में हमारे परमेश्‍वर ने हम को नहीं छोड़ दिया, वरन फारस के राजाओं को हम पर ऐसे कृपालु किया, कि हम नया जीवन पाकर अपने परमेश्‍वर के भवन को उठाने, और इसके खण्डहरों को सुधारने पाए, और हमें यहूदा और यरूशलेम में आड़ मिली।

10“अब हे हमारे परमेश्‍वर इसके बाद हम क्‍या कहें, यही कि हम ने तेरी उन आज्ञाओं को तोड़ दिया है,(यूहन्ना 4:9)

11जो तू ने यह कहकर अपने दास नबियों के द्वारा दीं, ‘जिस देश के अधिकारी होने को तुम जाने पर हो, वह तो देश देश के लोगों की अशुद्धता के कारण और उनके घिनौने कामों के कारण अशुद्ध देश है, उन्‍हों ने उसे एक सिवाने से दूसरे सिवाने तक अपनी अशुद्धता से भर दिया है।

12इसलिये अब तू न तो अपनी बेटियाँ उनके बेटों को ब्‍याह देना और न उनकी बेटियों से अपने बेटों का ब्‍याह करना, और न कभी उनका कुशल क्षेम चाहना, इसलिये कि तुम बलवान बनो और उस देश के अच्‍छे अच्‍छे पदार्थ खाने पाओ, और उसे ऐसा छोड़ जाओ, कि वह तुम्‍हारे वंश के अधिकार में सदैव बना रहे।’

13और उस सब के बाद जो हमारे बुरे कामों और बड़े दोष के कारण हम पर बीता है, जब कि हे हमारे परमेश्‍वर तू ने हमारे अधर्म के बराबर हमें दण्ड नहीं दिया, वरन हम में से कितनों को बचा रखा है,

14तो क्‍या हम तेरी आज्ञाओं को फिर से उल्‍लंघन करके इन घिनौने काम करनेवाले लोगों से समधियाना का सम्‍बन्‍ध करें? क्‍या तू हम पर यहाँ तक कोप न करेगा जिस से हम मिट जाएँ और न तो कोई बचे और न कोई रह जाए?

15हे इस्राएल के परमेश्‍वर यहोवा ! तू तो धर्मी है, हम बचकर मुक्‍त हुए हैं जैसे कि आज वर्तमान हैं। देख, हम तेरे सामने दोषी हैं, इस कारण कोई तेरे सामने खड़ा नहीं रह सकता।”



 <<  Ezra 9 >> 


Bible2india.com
© 2010-2024
Help
Single Panel

Laporan Masalah/Saran